BHU वि‍श्‍वनाथ मंदि‍र के इति‍हास से जुड़ी वो 10 बातें जो शायद आप नहीं जानते

बनारस। दोस्‍तों अगर आप बनारस में रहते हैं या फि‍र कभी बनारस घूमने आए हों तो आपने बनारस हि‍न्‍दू यूनि‍वर्सि‍टी के ठीक बीचो-बीच वि‍शाल वि‍श्‍वनाथ मंदि‍र को जरूर देखा होगा। भारत का ये सबसे वि‍शाल शि‍वमंदि‍र ना सि‍र्फ बनारस की शान है बल्‍कि‍ इसकी भव्‍य नक्‍काशी और आस-पास का वातावरण यहां आने वाले हर कि‍सी का मन मोह लेता है। आइए, जानते हैं बीएचयू परि‍सर में स्‍थि‍त इस वि‍शाल शि‍व मंदि‍र के बारे में कुछ रोचक तथ्‍य जो शायद आप नहीं जानते होंगे।

1. सन् 1916 में बीएचयू की स्‍थापना के बाद से ही महामना मदन मोहन मालवीय के मन में परि‍सर के भीतर एक भव्‍य वि‍श्‍वनाथ मंदि‍र बनाने की योजना थी। मालवीय जी इस मंदि‍र का शि‍लान्‍यास कि‍सी महान तपस्‍वी से ही कराना चाहते थे।

2. कि‍सी सि‍द्ध योगी की तलाश में प्रयासरत मालवीय जी को स्‍वामी कृष्‍णाम नामक महान तपस्‍वी के बारे में पता चला। स्‍वामी कृष्‍णाम देश-दुनि‍या से दूर हि‍मालय पर्वतमाला में गंगोत्री ग्‍लेशि‍यर से 150 कोस आगे काण्‍डकी नाम की गुफा में वर्षों से तप कर रहे थे।

3. सन् 1927 में मालवीय जी ने सनातन धर्म महासभा के प्रधानमंत्री गोस्‍वामी गणेशदास जी को स्‍वामी कृष्‍णाम के पास भेजकर मंदि‍र का शि‍लान्‍यास करने का नि‍वेदन कि‍या।

4. हमेशा साधना में लीन रहने वाले तपस्‍वी कृष्‍णाम स्‍वामी को मनाने में गोस्‍वामी गणेशदास जी को भी चार साल लग गए।

5. आखि‍रकार 11 मार्च सन् 1931 को स्‍वामी कृष्‍णाम के हाथों मंदि‍र का शि‍लान्‍यास हुआ। इसके बाद मंदि‍र का नि‍र्माण कार्य शुरू हुआ। दुर्भाग्‍य से मंदि‍र का नि‍र्माण मालवीय जी के जीवन काल में पूरा ना हो सका।

6. मालवीय जी के नि‍धन से पूर्व उद्योगपति‍ जुगलकि‍शोर बि‍रला ने उन्‍हें भरोसा दि‍लाया कि‍ हर हाल में बीएचयू परि‍सर के भीतर भव्‍य मंदि‍र का निर्माण होगा और इसके लि‍ए धन की कभी कोई कमी नहीं आएगी।

7. सन 1954 तक शि‍खर को छोड़कर मंदि‍र का नि‍र्माण कार्य पूरा हो गया।

शि‍खर नि‍र्माण के दौरान वि‍श्‍वनाथ मंदि‍र की एक दुर्लभ तस्‍वीर।

8. 17 फरवरी सन् 1958 को महाशि‍वरात्रि‍ के दि‍न मंदि‍र के गर्भगृह में नर्मदेश्‍वर बाणलि‍ंग की प्रति‍ष्‍ठा हुई और भगवान वि‍श्‍वनाथ की स्‍थापना इस मंदि‍र में हो गयी। मंदि‍र के शि‍खर का कार्य वर्ष 1966 में पूरा हुआ।

9. मंदि‍र के शि‍खर पर सफेद संगमरमर लगाया गया और उनके ऊपर एक स्‍वर्ण कलश की स्‍थापना हुई। इस स्‍वर्णकलश की ऊंचाई 10 फि‍ट है, तो वहीं मंदि‍र के शि‍खर की ऊंचाई 250 फि‍ट है।

10. यह मंदि‍र भारत का सबसे ऊंचा शि‍वमंदि‍र है। काशी हि‍न्‍दू वि‍श्‍ववि‍द्यालय परि‍सर के ठीक बीचो-बीच स्‍थि‍त यह मंदि‍र 2,10,000 वर्ग मीटर क्षेत्रफल में स्‍थि‍त है।

Advertisements

10 Benefits of Green tea

images

1.  Green tea contain bioactive compound that improve Health

2. Compound in Green tea can improve brain function and make you smarter

3. Green tea increases fat burning and improve physical performence

4. Antioxidant in Green tea may low risk of some type of cancer 

5. Green Tea May Protect Your Brain in Old Age, Lowering Your Risk of Alzheimer’s and Parkinson’s

6. Green Tea Can Kill Bacteria, Which Improves Dental Health and Lowers Your Risk of Infection

7. Green Tea May Lower Your Risk of Type 2 Diabetes

8. Green Tea May Reduce Your Risk of Cardiovascular Disease

9. Green Tea Can Help You Lose Weight and Lower Your Risk of Obesity

10. Green Tea May Help You Live Longer

 

Varanasi, Banarasi and Kashi

30_04_2016-30varanasi

Varanasi, or Benaras, (also known as Kashi) is one of the oldest living cities in the world. Varanasi`s Prominence in Hindu mythology is virtually unrevealed. Mark Twain, the English author and literature, who was enthralled by the legend and sanctity of Benaras, once wrote :

Benaras is older than history, older than tradition, older even than legend and looks twice as old as all of them put together

According to the ‘Vamana Purana’, the Varuna and the Assi rivers originated from the body of the primordial Person at the beginning of time itself. The tract of land lying between them is believed to be ‘Varanasi’, the holiest of all pilgrimages. The word ‘Kashi’ originated from the word ‘Kas’ which means to shine. Steeped in tradition and mythological legacy, Kashi is the ‘original ground ‘ created by Shiva and Parvati, upon which they stood at the beginning of time. Varanasi is the microcosm of Hinduism, a city of traditional classical culture, glorified by myth and legend and sanctified by religion , it has always attracted a large number of pilgrims and worshippers from time immemorial. To be in Varanasi is an experience in itself an experience in self–discover an eternal oneness of the body and soul. To every visitor; Varanasi offers a breathtaking experience. The rays of the dawn shimmering across the Ganges, the high-banks, the temples and shrines along the banks bathed in a golden hue soul stirring hymns and mantras alongwith the fragrance of incense filling the air and the refreshing dip in the holy waters gently splashing at the Ghats. Varanasi – the land where experience and discovery reach the ultimate bliss. Varanasi is also renowned for its rich tapestry of music, arts, crafts and education. Some of the world renowned exponents India has produced in these fields were schooled in Varanasi’s cultural ethos.

Luminaries apart, Varanasi abounds in the art of silk weaving, an exotic work of art which manifests itself in precious Banarasi Silk Sarees and Silk brocades which are cherished as collector’s items across the world today.

–Arpan

Madrid Protocol in India: Concerning the International Registration of Trade Marks

Abstract The study is based on the importance of the Madrid Protocol in the present economic scenario of India. The Indian economy is one of the fastest growing economies and has all the potential to become the world leader in this century. The Intellectual Property is an important tool for the economic well-being of a […]

via Madrid Protocol in India: Concerning the International Registration of Trade Marks — arpan360

आप सभी को 68 वें गणतंत्र दिवस की शुभ कामना।

Merry Christmas

have-a-merry-christmas-everyone-wishes-greetings-animated-gif-image.gif

May the melody and spirit of the holidays fill your home with love and peace. I wish you all the best and happy New Year too!