Happy birthday Sachin


This is a very special milestone in the journey called life. Wish God will make this milestone full of joy and happiness.

Advertisements

पृथ्वी दिवस: पोलिथिन से घुट रहा पृथ्वी का दम, हवा भी हो रही जहरीली,

पोलिथिन की थैलियों व प्लास्टिक कचरे के दिनोंदिन बढ़ते ढेर से पृथ्वी का दम घुटने लगा है। केवल पृथ्वी ही नहीं, अजर-अमर कहीं जाने वाली प्लास्टिक व पोलिथिन नदी-नालों को छोड़ समुद्र तक में ताडव मचा रही है। इसकी पहुंच किस हद तक है इसका अनुमान इसी से लगाया जा सकता है कि भूगर्भ जल से लेकर समुद्र जल से तैयार किए जाने वाले नमक तक में प्लास्टिक के कण पाए गए हैं। पर्यावरण को चौतरफा चुनौती दे रही पोलिथिन से खतरे को देखते हुए ही पृथ्वी दिवस (22 अप्रैल) का इस वर्ष का थीम ‘प्लास्टिक प्रदूषण को खत्म करो’ रखा गया है।

Law allows women to kill rapists in self-defence’

img1523994564345-183653054.jpg

Teach your daughters to be bold to fight against sexual harassment and teach your sons to respect women, exhorted a panel of experts at a meeting on women’s safety. The audience included parents who came together in view of the Delhi gang-rape incident and its repercussions on society at large.

It was organised by All India Institute of Local Self-government and Sphurti Mahila Mandal, Pune.

 

he meeting was held at the Mahratta Chamber of Commerce, Industries and Agriculture (MCCIA) building on Tilak Road. Most experts said that victims do not come forward to report such cases and most are unaware of the law.

“Women are not aware of their rights. Currently, I attend workshops on women’s safety. I told the women that if they were threatened with rape, they have the right under Indian Penal Code section 100 to even kill rapists in self-defence. They were shocked. We must make women aware of their rights and make them bold enough to exercise them,” said Shahji Solunke, additional commissioner of police (crime).

 

NCP MP Vandana Chavan said, “Parents tell their girls to dress conservatively, come home at a certain time. But in case of boys, they give them full freedom. It is time that if we want gender violence to stop, teach boys at home about gender equality. Keep an eye on their movements and make them responsible.”

Data Entry Operator Job in Banaras Hindu University


bhu data entry operator job 2018

Banaras Hindu University Varanasi is inviting applicants to apply for the post of Data Entry Operator to work for the project titled “Operationalization of Sick Newborn Care Unit” (SNCU) in the Department of Pediatrics, IMS, BHU. Deserving and Selected candidates will get Rs. 12,000/- Per Month. Students having Graduation Degree can apply for this recruitment.

Students having Graduation Degree are eligible to apply for this post.

Selected candidates can earn handsome salary Rs. 12,000/- Per Month.

Interested and Eligible candidates can apply on or before 24th April 2018

All eligible and interested candidates filling all the qualifying criteria can apply before the last date. Further details regarding to this job like: Educational Qualification, Salary, Age Limit, Selection Process etc. are mentioned below. Applicants can apply before the last date and before applying for this recruitment applicants must have a look below:

Data Entry Operator

Banaras Hindu University

24th April 2018

Number of posts- 01

Varanasi

Rs. 12,000/- Per Month

Applying candidates should have Graduation Degree in Science from a recognized university

Applying candidates should have One Year Certification Course in Computer Application

As per norms

As per norms

Applicants willing to apply for this post can apply with detailed bio data and all documents at the address mentioned below on or before 24th April 2018

Dr Ashok Kumar, Professor and SNCU Coordinator, Department of Pediatrics, Institute of Medical Sciences, Banaras Hindu University, Varanasi.

IIT Kanpur Job Opening for Project Engineer

IIT Kanpur Job Opening for Project Executive Officer

Guest Teacher Job Opening in AMU Aligarh

BECIL, Lucknow Recruitment for Assistant Project Director

Happy birthday Robert Downey Jr


You are an example, you keep promise, you always do and, you are loved and adored for the same. Best wishes on your birthday, stay the change you are.

BHU वि‍श्‍वनाथ मंदि‍र के इति‍हास से जुड़ी वो 10 बातें जो शायद आप नहीं जानते

बनारस। दोस्‍तों अगर आप बनारस में रहते हैं या फि‍र कभी बनारस घूमने आए हों तो आपने बनारस हि‍न्‍दू यूनि‍वर्सि‍टी के ठीक बीचो-बीच वि‍शाल वि‍श्‍वनाथ मंदि‍र को जरूर देखा होगा। भारत का ये सबसे वि‍शाल शि‍वमंदि‍र ना सि‍र्फ बनारस की शान है बल्‍कि‍ इसकी भव्‍य नक्‍काशी और आस-पास का वातावरण यहां आने वाले हर कि‍सी का मन मोह लेता है। आइए, जानते हैं बीएचयू परि‍सर में स्‍थि‍त इस वि‍शाल शि‍व मंदि‍र के बारे में कुछ रोचक तथ्‍य जो शायद आप नहीं जानते होंगे।

1. सन् 1916 में बीएचयू की स्‍थापना के बाद से ही महामना मदन मोहन मालवीय के मन में परि‍सर के भीतर एक भव्‍य वि‍श्‍वनाथ मंदि‍र बनाने की योजना थी। मालवीय जी इस मंदि‍र का शि‍लान्‍यास कि‍सी महान तपस्‍वी से ही कराना चाहते थे।

2. कि‍सी सि‍द्ध योगी की तलाश में प्रयासरत मालवीय जी को स्‍वामी कृष्‍णाम नामक महान तपस्‍वी के बारे में पता चला। स्‍वामी कृष्‍णाम देश-दुनि‍या से दूर हि‍मालय पर्वतमाला में गंगोत्री ग्‍लेशि‍यर से 150 कोस आगे काण्‍डकी नाम की गुफा में वर्षों से तप कर रहे थे।

3. सन् 1927 में मालवीय जी ने सनातन धर्म महासभा के प्रधानमंत्री गोस्‍वामी गणेशदास जी को स्‍वामी कृष्‍णाम के पास भेजकर मंदि‍र का शि‍लान्‍यास करने का नि‍वेदन कि‍या।

4. हमेशा साधना में लीन रहने वाले तपस्‍वी कृष्‍णाम स्‍वामी को मनाने में गोस्‍वामी गणेशदास जी को भी चार साल लग गए।

5. आखि‍रकार 11 मार्च सन् 1931 को स्‍वामी कृष्‍णाम के हाथों मंदि‍र का शि‍लान्‍यास हुआ। इसके बाद मंदि‍र का नि‍र्माण कार्य शुरू हुआ। दुर्भाग्‍य से मंदि‍र का नि‍र्माण मालवीय जी के जीवन काल में पूरा ना हो सका।

6. मालवीय जी के नि‍धन से पूर्व उद्योगपति‍ जुगलकि‍शोर बि‍रला ने उन्‍हें भरोसा दि‍लाया कि‍ हर हाल में बीएचयू परि‍सर के भीतर भव्‍य मंदि‍र का निर्माण होगा और इसके लि‍ए धन की कभी कोई कमी नहीं आएगी।

7. सन 1954 तक शि‍खर को छोड़कर मंदि‍र का नि‍र्माण कार्य पूरा हो गया।

शि‍खर नि‍र्माण के दौरान वि‍श्‍वनाथ मंदि‍र की एक दुर्लभ तस्‍वीर।

8. 17 फरवरी सन् 1958 को महाशि‍वरात्रि‍ के दि‍न मंदि‍र के गर्भगृह में नर्मदेश्‍वर बाणलि‍ंग की प्रति‍ष्‍ठा हुई और भगवान वि‍श्‍वनाथ की स्‍थापना इस मंदि‍र में हो गयी। मंदि‍र के शि‍खर का कार्य वर्ष 1966 में पूरा हुआ।

9. मंदि‍र के शि‍खर पर सफेद संगमरमर लगाया गया और उनके ऊपर एक स्‍वर्ण कलश की स्‍थापना हुई। इस स्‍वर्णकलश की ऊंचाई 10 फि‍ट है, तो वहीं मंदि‍र के शि‍खर की ऊंचाई 250 फि‍ट है।

10. यह मंदि‍र भारत का सबसे ऊंचा शि‍वमंदि‍र है। काशी हि‍न्‍दू वि‍श्‍ववि‍द्यालय परि‍सर के ठीक बीचो-बीच स्‍थि‍त यह मंदि‍र 2,10,000 वर्ग मीटर क्षेत्रफल में स्‍थि‍त है।

10 Benefits of Green tea

images

1.  Green tea contain bioactive compound that improve Health

2. Compound in Green tea can improve brain function and make you smarter

3. Green tea increases fat burning and improve physical performence

4. Antioxidant in Green tea may low risk of some type of cancer 

5. Green Tea May Protect Your Brain in Old Age, Lowering Your Risk of Alzheimer’s and Parkinson’s

6. Green Tea Can Kill Bacteria, Which Improves Dental Health and Lowers Your Risk of Infection

7. Green Tea May Lower Your Risk of Type 2 Diabetes

8. Green Tea May Reduce Your Risk of Cardiovascular Disease

9. Green Tea Can Help You Lose Weight and Lower Your Risk of Obesity

10. Green Tea May Help You Live Longer